''Wel-Come''

छोटी खाटू के लड़के ने पूरा किया New Year Resolutions , ग्रामीणो ने बनाया सरपंच !!!! [chhoti khatu village head ]

4
हम लोग हर नए साल पर कुछ Resolutions(संकल्प) बनाते हे परन्तु कमजोर इच्छा सकती और काम की व्यवस्थाओं के बीच हमारे संकल्प पहली तारीख के आधे दिन तक ही नहीं चल पाते हे | New Year Resolutions टूटना अब एक आम बात हो गयी हे । यही कारन हे की लोग दूसरों के टूटते हुवे Resolutions पर ठीक ढंग से हंस भी नहीं पाते। जब नया साल लगा तो हर बार की तरह इस बार भी लोगों ने New Year Resolutions  बनाने की परम्परा का निर्वाहन करते हुवे अपने अपने Resolutions बनाये और फिर बेफिक्र होकर अपने दैनिक कार्य करने लगे । लेकिन राजस्थान के नागौर जिले की डीडवाना तहसील के छोटी खाटू गांव में तो इस बार चमत्कार ही हो गया ।
एक लड़का जो इंजीनियर बताया जा रहा हे ,के पापा ने देखा की उसका बेटा ठीक वही काम कर रहा हे जो उसने अपने New Year Resolutions में बनाये थे । लड़के के पापा ने यह न हजम होने वाली बात लड़के की माँ को बताई और लड़के की माँ ने यह बात अपनी एक पड़ोसन को बताई |
      
लड़का इंजीनियर बताया जा रहा है |
     
फिर क्या था देखते ही देखते शाम तक यह बात पुरे गांव में आग की तरह फेल गयी । अगले दिन तो मानो उस लड़के की जिंदगी बदल सी गयी । एक और जंहा लड़की वाले रिश्ते लेकर पहुँचने लगे तथा लड़के को दोस्तों और रिश्तेदारों से बधाइयाँ मिलने लगी । वंही दूसरी और जागरूक ग्रामीणों का एक समूह चाय की थड़ी पर इक्कठा हुवा । लड़के के भविष्य को लेकर नयी नयी कल्पनायें साकार होने लगी । कोई उसे भविष्य का IAS बता रहा था तो कोई कह रहा था की ऐसा मेहनती लड़का तो 'मास्टर' बनेगा और घर बैठे बैठे खायेगा । बात नौकरी से राजनीती की और मुड़ी | एक ग्रामीण ने कहा की लड़का इंजिनियर हे राजनीती में आया तो अरविन्द केजरीवाल जैसा नाम करेगा । इसी बीच चाय की थड़ी के मालिक और मोदी समर्थक नेमीचंद जी ने कहा की यह लड़का तो मोदी जैसा कुछ करेगा । कुल मिलकर लोग उसे 'इंजिनियर' को छोड़कर कुछ-ना-कुछ बनाने पर तुले हुवे थे । तभी भीड़ से एक आवाज आई,"थोड़े ही दिनों में सरपंचो के चुनाव हे, ऐसा लड़का तो गांव का सरपंच होना चाहिए |
                                    अब क्या था तीर कमान से बात जुबान से निकल चुकी थी  और पुरे गांव में लड़के को सरपंच बनाये जाने की चर्चा होने लगी । सरपंच पद के लिए चुनावों की घोषणा हो चुकी थी लेकिन इस बार पंचायतों के चुनाव के लिए सरकार ने एक नया नियम जोड़ दिया की केवल वही आदमी सरपंच बन पायेगा जिसने अपना New Year Resolutions  पूरा किया हो |
                        नये नियम के आ जाने से सारे उम्मीदवारों के आवेदन पत्र निरस्त हो गये और लड़के को  निर्विरोध सरपंच बना दिया गया ।
लड़का सरपंच बन गया लेकिन लोगों ने अब  तक यह जानने  की कोशिश नहीं की थी की  लड़के   के New Year Resolutions आखिर  थे क्या ?
सुचना के अधिकार से हमने जो जानकारी पायी उसके अनुसार यह थे उस लड़के के New Year Resolutions :-
1.सुबह 8 बजे से पहले कभी नहीं उठूंगा ।
2.हर रोज गीले पानी से स्नान करूँगा चाहे कितनी भी गर्मी हो या सर्दी ।
3.बिना कपडे पहने कभी घर से बहार नहीं निखलूंगा ।
4.धुप हमेशा दिन में ही लूंगा |
तब एक बात समझ में आई की ,"लड़के के New Year Resolutions चाहे कुछ भी रहे हो पर था वो इंजिनियर"
Disclaimer :- इस घटना का वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं हे । लेखक ने टूटते हुवे New Year Resolutions पर व्यंग्य किया हे |





4 Comment Here:

  1. Rahul Rathore said...
  2. बढ़िया है ...:)

  3. Ratan singh shekhawat said...
  4. हम तो खुश हो रहे थे कि आपको गांव का निर्विरोध सरपंच बना दिया :)
    हमारे गांव में एक बार ऐसा हुआ था, गोरुराम किरडोलिया ने बीए किया ही था, सरपंच के लिए उम्र भी कम थी पर गांव वालों ने उसे सरपंच बना दिया, कि पढ़ा लिखा लड़का है काम कराएगा और तहसील, जिला मुख्यालय भेजने का किराया भी नहीं देना पड़ेगा क्योंकि वह बसों में किराया देता ही नहीं था ! पर अफ़सोस विरोधी पार्टी ने उनकी उम्र को लेकर मुकदमा किया और सस्पेंट करवा दिया !

  5. AJIT NEHRA said...
  6. बहुत ही अच्छी जानकारी मिल रही है आपकी साईट से
    DATA ENTRY JOB
    Online Capthca Entry Jobs free
    Mobile sms sending jobs earn money at home by mobile
    Best All home based jobs business without investment
    DATA ENTRY JOB
    Government Jobs on mobile daily alerts

  7. Kavita Rawat said...
  8. अब भी यही हाल है देश का। .
    बहुत सही

Post a Comment

subscribe

 
Copyright 2010 Vijay Pal Kurdiya