''Wel-Come''

जुगाड़ से बनाये पेन रकने का डिब्बा...[ Jugad ]

13
  • Friday, October 22, 2010
  • विजयपाल कुरडिया
  • लेबल:


  • क्या चहिये:- सिम कार्ड निकालने के  बाद बचे 5 कार्ड,चिपकाने के लिये टेप ,कैंची|













    क्या करे:-4 कार्डो को चित्रानुसार जोड़ ले|
                  










    अब बाकि बचे एक कार्ड को इतना काटे की डिब्बे का एक भाग पूरा ढक जावे |

                   

     
    और तैयार है पेन रकने का डिब्बा | अब इसमे अपने पेन रक दे |
                
    आप  इसके चारो और gift paper लगाकर ओर भी सुंदर बना सकते है |

    13 Comment Here:

    1. Udan Tashtari said...
    2. बहुत सही भाई..

    3. महेन्द्र मिश्र said...
    4. बहुत सही अभी बनाता हूँ ....

    5. Patali-The-Village said...
    6. बहुत सुन्दर....

    7. ZEAL said...
    8. aww...that's cool !

    9. NEHA MATHEWS said...
    10. aapka blog bahut accha hai.

    11. एस.एम.मासूम said...
    12. good idea

    13. राम त्यागी said...
    14. शानदार आईडिया ! हिंदी ब्लॉग्गिंग में स्वागत है आपका !

    15. Raj said...
    16. अरे वाह आपने ये पोस्ट कर दिया हमारे यहाँ यह प्रचलन में है. शुभकामनाये.

    17. Surendra Singh Bhamboo said...
    18. ब्लाग जगत की दुनिया में आपका स्वागत है। आप बहुत ही अच्छा लिख रहे है। इसी तरह लिखते रहिए और अपने ब्लॉग को आसमान की उचाईयों तक पहुंचाईये मेरी यही शुभकामनाएं है आपके साथ
      ‘‘ आदत यही बनानी है ज्यादा से ज्यादा(ब्लागों) लोगों तक ट्प्पिणीया अपनी पहुचानी है।’’
      हमारे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

      मालीगांव
      साया
      लक्ष्य

      हमारे नये एगरीकेटर में आप अपने ब्लाग् को नीचे के लिंको द्वारा जोड़ सकते है।
      अपने ब्लाग् पर लोगों लगाये यहां से
      अपने ब्लाग् को जोड़े यहां से

      कृपया अपने ब्लॉग पर से वर्ड वैरिफ़िकेशन हटा देवे इससे टिप्पणी करने में दिक्कत और परेशानी होती है।

    19. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...
    20. अति सुंदर।
      ..............
      यौन शोषण : सिर्फ पुरूष दोषी?
      क्या मल्लिका शेरावत की 'हिस्स' पर रोक लगनी चाहिए?

    21. खबरों की दुनियाँ said...
    22. अच्छी पोस्ट , शुभकामनाएं । पढ़िए "खबरों की दुनियाँ"

    23. vijaypal said...
    24. धन्यवाद, सुरेन्द्र सिंह जी, मैने अपने ब्लॉग पर से वर्ड वैरिफ़िकेशन हटा दी है|

    25. BAAS VOICE - Dr. Purushottam Meena 'Nirankush' said...
    26. शानदार प्रयास बधाई और शुभकामनाएँ।

      एक विचार : चाहे कोई माने या न माने, लेकिन हमारे विचार हर अच्छे और बुरे, प्रिय और अप्रिय के प्राथमिक कारण हैं!

      -लेखक (डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश') : समाज एवं प्रशासन में व्याप्त नाइंसाफी, भेदभाव, शोषण, भ्रष्टाचार, अत्याचार और गैर-बराबरी आदि के विरुद्ध 1993 में स्थापित एवं 1994 से राष्ट्रीय स्तर पर दिल्ली से पंजीबद्ध राष्ट्रीय संगठन-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान- (बास) के मुख्य संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। जिसमें 05 अक्टूबर, 2010 तक, 4542 रजिस्टर्ड आजीवन कार्यकर्ता राजस्थान के सभी जिलों एवं दिल्ली सहित देश के 17 राज्यों में सेवारत हैं। फोन नं. 0141-2222225 (सायं 7 से 8 बजे), मो. नं. 098285-02666.
      E-mail : dplmeena@gmail.com
      E-mail : plseeim4u@gmail.com
      http://baasvoice.blogspot.com/
      http://baasindia.blogspot.com/

    Post a Comment

    subscribe

     
    Copyright 2010 Vijay Pal Kurdiya